Saturday , October 1 2022
Breaking News

ग्राउंड ज़ीरो पर समाजवादी पार्टी ज़ीरो है: केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर

 

सूचना एवं प्रसारण और खेल मंत्री श्री अनुराग ठाकुर ने न्यूज18 इंडिया मैनेजिंग एडिटर अमीष देवगन के साथ विशेष बातचीत के दौरान उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में लिये भारतीय जनता पार्टी के संकल्प पत्र को लेकर चर्चा और चुनाव की कई बातें साझा कीं…

सवाल: विपक्ष का अरोप है कि पांच साल पार्टी ने कुछ काम नहीं किया इसलिये भाजपा को दोबारा संकल्प पत्र की आवश्यकता पड़ी।

जवाब: ग्रांउड पर सपा जीरो है, बेहाल है, इसलिये इस तरह के आरोप लगाती है। बसपा-सपा की सरकारें जब रही तो उत्तर प्रदेश बेहाल रहा। भ्रष्टचार, आतंकवाद, गुंडाराज, माफियाराज का बोलबाला रहा। जनता त्रस्त थी पलायन के लिये मजबूर थी। लेकिन 2017 में हमने सबसे बड़ा वायदा किया कि गुंडाराज, मफिया राज मुक्त उत्तर प्रदेश करेगें। आज पांच साल बाद मैं यह कह सकता हूं कि उप्र को माफियों से मुक्त योगी आदित्यनाथ सरकार ने किया है।

सवाल: विपक्ष के वचन पत्र में गन्ने का भुगतान 15 दिन में कर देगें। जीरो टौलरेंस हेट क्राइम के लिये । अखिलेष यादव पूरी तरह से तैयार और यह नई सपा है।

जवाब: यह वही सपा है दंगाईयों का हाथ अपराधियों का साथ। इसमें कुछ नया नहीं है। वह जितने मर्जी वचन दे ले, उनके वचन पत्र लाते समय क्या नेताजी साथ थे, बड़ा सवाल यह खड़ा होता है कि उनके साथ परिवार नहीं है, पिता नहीं, भाभी नही, चाचा नहीं है। वह परिवार के कुनबे की पार्टी थी उनके अपने भी साथ नहीं है। शिवपाल यादव किस स्थिति में उनके साथ है। यह दिखाता है कि जो परिवार का नहीं हुआ तो उत्तर प्रदेश का क्या होगा।

सवाल: क्या आप को लगता है कि अखिलेष पर आप एक मोरल प्रेशर बनाना चाहते है। यह ही आप की रणनीति है?

जवाब: मैं कई मामलों में बहुत स्पष्ट हूं। अखिलेष यादव किसका स्वागत करने गये, वे ममता बनर्जी का जिन्होंने पश्चिम बंगाल में कहा था कि यूपी के लोग गुंडे है। उस समय अखिलेष यादव कहां थे जब ममता बनर्जी ने यह कहा था। उत्तर प्रदेश की जनता अपने स्वाभिमान की लडाई लडेगी और पूछेगी किसी ने कहा कि यूपी के लोग गुंडे है और अखिलेष यादव ने यह कैसे स्वीकार कर लिया। उनसे माफी क्यों नहीं मंगवाई। यूपी की धरती पर ममता बनर्जी के पैर पडने से पहले यह क्यों नही कहा कि जो आपने कहा उन शबदो को वापस लें।

सवाल: ममता बनर्जी को देख कर बीजेपी को गुस्सा क्यों आ जाता है। उन्होंने बीजेपी को पश्चिम बंगाल में चुनाव नहीं जीतने दिया? ममता बनर्जी ने पी सी में कहा कि बीजपी कहती थी अबकी बार दो सौ पार। मैने बीजेपी को रौंद दिया।

जवाब: जो अपनी सीट से चुनाव हार गई हो तो उनको मुख्यमंत्री बनने का अधिकार नहीं था। जनता ने उन्हें हराया था। वह सी एम कैसे बनी। यह दो दंगई एक साथ आये है। ये दोनों दंगई है। ममता बनर्जी के यहां कोई चुनाव ऐसा नहीं हुआ जहां पर चुनाव से पहले और चुनाव के बाद दंगा नहीं हुआ। भारतीय जनता पार्टी के कार्यकत्र्ताओं को परिवार पलायन करना पड़ा, हत्याएं कर दी गई, महिलाओं के साथ अत्याचार हुआ। एक महिला मुख्यमंत्री के रहते हुये ऐसा हुआ तो आप कल्पना कर सकते है कि क्या क्या हुआ होगा। स्वागत करने वाले अखिलेष यादव जिन की सरकार में हर चैथे दिन दंगे होते थे। जबसे योगी आदित्यनाथ आये तबसे ऐसे दंगईयों का उत्तर प्रदेश से पलायन शुरू हो गया।

सवाल: क्या आपको लगता है कि भाजपा दंगों के जख्मों को कुरेदना चाहती है। आप का शीर्ष नेतृत्व भी दंगों की बात करता है। ऐसा आरोप है कि आप दंगों को भूलाने देना ही नहीं चाहते है, इससे आपको वोट मिलता है।

जवाब: आप पर और आपके परिवार पर अत्याचार होता है और मजबूरन पलायन करना पड़ता है तो क्या आप उस दर्द को भूल जाओगें। कैराना सें पलायन करने वाले वापस आये यह जब हुआ जब हमने सुरक्षा वातावरण दिया है।

सवाल: विपक्ष का आरोप है कि भाजपा उत्तर प्रदेश पर साम्प्रादायिक ऐजेंडा थोप रही है।

जवाब: भाजपा के पांच साल शासन में किसी भी धर्म के व्यक्ति के साथ अन्याय नहीं हुआ। किसी के खिलाफ दंगा नहीं हुआ। क्योंकि हम सब का साथ, सब का विकास और सब का विश्वास के मूलमंत्र के साथ काम करते है।

सवाल: आप की सरकार पर आरोप क्यों लगते रहते है कि आप मुसलमानों को डराते और धमकाते है इसपर आप क्या कहना चाहते है।

जवाब: कुछ लोगों ने बाटो और राज करो की राजनीति की है। तुष्टिकरण की राजनीति, जाति और धर्म के नाम पर वोट बटोरा। 70 साल का खात निकाल कर देखिए, आप की जाति, गरीबी, धर्म के नाम पर वोट मांगा था, क्या आप के लिये बसपा, सपा और कांग्रेस ने कुछ किया। लेकिन जब चुनाव आता है तो अखिलेष यादव यह कहे कि मैं जीरो टौलरेंस देखूगां। जिनकी खुद की सरकार में हर चैथे दिन दंगा होता था तो जीरो टौलरेंस कहां गई। अतिक अहमद, अंसारी, नाहिद हसन, अब्दुल्ला आजम ये वो नाम है जो जेल में या बेल पर है। इनके कैडीडेट की लिस्ट में ये सब नाम है। यह सब िदखाता है कि यह कैंडीडेट नहीं चार्जशीट की कापी है।

सवाल: जयंत चैधरी ने यह कहा कि मुजफ्फरनगर दंगों में कुछ गलतियां हुई लेकिन अब हम सरकार में आयेंगे तो ऐसी दंगे नहीं होेगे।

जवाब: महागठबंधन पहले भी हुआ झूठे वायदे पहले भी किये गये। जनता ने उनको स्वीकार नहीं किया। जयंतजी को मैं यहां याद करवाना चाहता हूं कि थोडा समय निकालकर वह छोटे चौधरी:चैधरी अजित सिंहः का वीडियो निकालकर देख लें । उन्होंने कहा था कि जिस गाडी पर सपा का झंड़ा उसमें सबसे बड़ा गुंडा। उन्होंने यह भी कहा था कि सबसे ज्यादा दंगे सपा ने करवाये। सपा के खिलाफ तो झंडा स्वयं चैधरी अजित सिंह लेकर चलते थे।

सवाल: जयंत चैधरी ने कहा कि अबकी बार भाजपा के अंहकार को चूर चूर हो जायेगा।

जवाब: यह चमडी उधडने वाले वहीं लोग है जो सपा की सरकार में संरक्षण पाते थे और पलायन करने पर मजबूर करते थे।

सवाल: औवेसी साहब पर हमला होता है और उत्तर प्रदेश सरकार कहती है कि कानून व्यवस्था बहुत अच्छी है।

जवाब: कानून व्यवस्था का अंदाजा इसी से लगा सकते है कि जिसने
गोली चलाई उसको एक घंटे के अंदर गिरफ्तार कर लिया गया। सपा की सरकार होती जो एक घंटा क्या एक साल भी कार्रवाही नहीं होती। सपा के समय उत्तर प्रदेश की पुलिस आजम खान की भैंसों को ढूढने में लगी होती थी। लेकिन किसी बेटी को अगवा कर लिया जाता था तो उसे कोई ढूंढने नहीं जाता था।

सवाल: राहुल गांधी ने कुछ दिन पहले कहा था कि भारत एक देश नहीं बल्कि राज्यों का एक समूह है। प्रधानमंत्री ने भी बोला कांग्रेस के डीएनए में विभाजन की नीति है, कांग्रेस टुकडे टुकडे गैंग की लीडर है क्या आप को लगता कि राजनीति में हमें हेट देखने का मिल रही है।

जवाब: कांग्रेस पार्टी की यह हालत है कि 2019 की हार का सदमा अभी तक भून नहीं पाई। राहुलजी न सदन में नजर आते है न सडक पर नजर आते है। केवल टिवट करके कहीं घूमने चले जाते है। राहुलजी को जवाब प्रधानमंत्रीजी ने तथ्यों के साथ दिया। कश्मीर की गलती नेहरूजी ने की थी जिसका खामियाजा कई सालों तक हिन्दुस्तान को भुगतना पडा। 43000 लोगों की मृत्यु हुई जिसमें हमारे सैनिक बल और आम नागरिक भी थे। अगर अनुच्छेद 370 और 35 ए को सदा सदा के लिये खत्म किया तो नरेन्द्र मोदी की सरकार किया।

सवाल: कितनी सीटें भाजपा जीतेगी?

जवाब: वही हवा है वही सपा है, जनता जिनसे ख़फ़ा है, 10 मार्च को अखिलेश कहेंगे EVM बेवफ़ा है…