Thursday , September 29 2022
Breaking News

उत्तराखंड चुनाव 2022: प्रदेश में 766 बूथों पर बर्फबारी की चुनौती को पार कर पोलिंग पार्टियों को पैदल पहुंचना होगा बूथ

प्रदेश के आधे से ज्यादा बूथों तक पोलिंग पार्टियों को पैदल दूरी नापनी पड़ेगी। इस बार कुल 11,647 बूथों में से केवल 4504 बूथ ही ऐसे हैं, जहां पैदल यात्रा नहीं करनी पड़ेगी।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या ने बताया कि इस बार कुल 11647 बूथों पर मतदान होगा। इनमें 4504 बूथ ऐसे हैं, जहां पोलिंग पार्टियों को पैदल यात्रा नहीं करनी पड़ेगी। पांच हजार 43 बूथ ऐसे हैं, जहां पोलिंग पार्टियों को एक किलोमीटर तक पैदल चलना होगा।

इसके अलावा 845 बूथों पर एक से दो किलोमीटर, 508 बूथों पर दो से तीन किलोमीटर, 290 बूथों पर तीन से चार किलोमीटर, 195 बूथों पर चार से पांच किलोमीटर, 106 बूथों पर पांच से छह किलोमीटर, 38 बूथों पर छह से सात किलोमीटर, 51 बूथों पर सात से आठ किलोमीटर, 12 बूथों पर आठ से नौ किलोमीटर, 22 बूथों पर नौ से 10 किलोमीटर, आठ बूथों पर 10 से 11 किलोमीटर, पांच बूथों पर 11 से 12 किलोमीटर, तीन बूथों पर 12 से 13 किलोमीटर, तीन बूथों पर 13 से 14 किलोमीटर, पांच बूथों पर 14 से 15 किलोमीटर और नौ बूथों पर 15 से 20 किलोमीटर की पैदल दूरी तय करनी पड़ेगी।

सर्दियों में पहाड़ के कई इलाकों से लोग पलायन कर जाते हैं। इन लोगों के लिए 24 बूथ पलायन वाली जगहों पर बनाए गए हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या के मुताबिक, इनमें माइग्रेट बूथों में उत्तरकाशी का एक, चमोली के नौ और पिथौरागढ़ के 14 बूथ शामिल हैं। आपको बता दें कि इस बार 59 सहायक बूथ भी बनाए गए हैं ताकि चुनाव आयोग के एक बूथ पर निर्धारित संख्या के तहत मतदान कराया जा सके।