Wednesday , February 21 2024
Breaking News

डीसी एनआरएलएम ने एक साल में दो बार बदली अपनी रिपोर्ट ग्रामीण पहुंचे कलेक्ट्रेट



Report By : Sanjay Sahu, Chitrakoot


चित्रकूट : विकासखंड कर्वी की ग्राम पंचायत कादरगंज में रिक्त सस्ते गल्ले की दुकान की चयन प्रक्रिया में सवाल उठाए हैं। ग्रामीणों ने मंगलवार को इस मामले की जांच करा कर न्याय की गुहार लगाई है । सौंपे गए शिकायती पत्र में ग्रामीणों ने जिलाधिकारी सहित उच्चाधिकारियों से मामले की जांच कराने और पात्र व्यक्ति का चयन कराए जाने की मांग की है । गांव के मनोज कुमार चुनवाद अजीत सिंह बसंत लाल संगीता देवी राजा देवी उमा देवी आदि लोगों ने अवगत कराया कि ग्राम पंचायत कादरगंज में रिक्त सस्ते गल्ले की दुकान के आवंटन हेतु डीसी एनआरएलएम के द्वारा नियमों को ताक में रखकर अपात्र समूह सोना स्वयं सहायता के पक्ष में पैरवी की गई है बताया कि 26 जुलाई 2022 को खुली बैठक आयोजित की गई थी जिसमें 4 समूह दुर्गा, महालक्ष्मी, लक्ष्मी एवं स्वतंत्र समूह ने आवेदन किया था ।

डीसी ने मिशन निदेशक आजीविका मिशन से अनुमोदन लेकर महालक्ष्मी समूह के पक्ष में अपना अभिमत दिया था लेकिन बिना किसी कारण के एसडीएम द्वारा चयन प्रक्रिया को अचानक निरस्त करने का आदेश जारी कर दिया गया, जिसमें कोई भी कारण उल्लेख नहीं किया । इसके बाद पुनः खुली बैठक कर दुकान चयन का आदेश हुआ। उस बैठक में डीसी द्वारा प्राप्त आवेदनों में अन्य 3 आवेदनों को दरकिनार कर अपात्र सोना समूह के पक्ष में अभिमत प्रस्तुत किया गया जिसमें नियमों की अनदेखी खुलेआम की गई । यह कि सोना समूह 3 वर्षों से निष्क्रिय पड़ा था, 3 वर्ष के बाद 11 अगस्त 2022 को समूह का खाता खोलकर पुनर्गठन करके सक्रिय किया गया, पुनर्गठन होने से समूह नई श्रेणी में आ जाता है ,लेकिन अधिकारियों ने इसी समूह को वरिष्ठ बताकर पात्र घोषित कर चयन का रास्ता साफ कर दिया, जो खुलेआम अन्याय है और शासनादेशों का खुला उल्लंघन है ।इतना ही नहीं नए समूह राशन की दुकान के लिए गठित करना अथवा नए सदस्यों का नाम जोड़ना शासन के निर्णय की मंशा के विपरीत है ।

शिकायतकर्ताओं ने अवगत कराया कि यह दुकान अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित थी जबकि सोना समूह का आवेदन कर्ता ज्योति सिंह सामान्य वर्ग से है जो कि नियम के विरुद्ध है। इसके अलावा और भी गड़बड़ी का एक बिंदु है जिसमें समूह के खाते में ₹40000 होना अनिवार्य है जबकि सोना समूह ही 5 माह पुराना है और न आरएफ आया और न ही सीआईएफ तो फिर समूह के खाते में धनराशि कहां से आई । शिकायतकर्ता ने कहा कि डीसी एनआरएलएम द्वारा नियम कानून को ताक पर मनमाने तरीके से अभिमत प्रस्तुत किए गए हैं जो कि बिल्कुल नियम संगत नहीं है ।उन्होंने कहा कि इस मामले की गहनता से जांच कराई जाए और समूहों के रजिस्टर मंगाकर चेक किया जाए तो वास्तविकता सामने आ जाएगी।