Tuesday , September 27 2022
Breaking News

शिवपाल और ओम प्रकाश राजभर ने अखिलेश पर कसे तंज !

Shivpal and Om Prakash Rajbhar took a jibe at Akhilesh

राष्ट्रपति चुनाव की वोटिंग के बीच राजनीतिक दलों में हुई जुबानी जंग

वोटिंग के दौरान सपा विधायकों की तरफ से क्रास वोटिंग का अंदेशा

लखनऊ :  राष्ट्रपति चुनाव की वोटिंग के बीच उत्तर प्रदेश में राजनीतिक दलों के बीच जुबानी जंग भी देखने को मिली। कभी समाजवादी पार्टी के साथ चलने वाले सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने भी राष्ट्रपति चुनाव की वोटिंग के दौरान अखिलेश यादव पर जमकर तंज कसे। वहीं शिवपाल यादव ने भी अखिलेश को इशारों- इशारों में बता दिया कि उन्होंने चुनाव में समर्थन किसको किया है। यही नहीं राष्ट्रपति चुनाव की वोटिंग के दौरान सपा विधायकों की तरफ से क्रास वोटिंग का अंदेशा जताया जा रहा है।

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल यादव ने कहा कि नेताजी (मुलायम यादव) को ISI एजेंट कहने वाले (विपक्ष के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा) का कभी समर्थन नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि ‘सपा के कट्टर नेता,नेताजी के सिद्धांतों का पालन करने वाले ऐसे आरोप लगाने वाले उम्मीदवार का कभी समर्थन नहीं करेंगे। उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव मुझे सपा विधायक नहीं मानते,इसलिए कभी मुझे बैठक में नहीं बुलाते हैं। यही नहीं उन्होंने कहा कि नेताजी का अपमान हम कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। अखिलेश ने न हमसे पूछा न नेताजी से इसलिए मैं लोहिया जी के विचारों पर चल रहा हूं।’

वहीं राष्ट्रपति चुनाव के दौरान सुभासपा अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर की भी एक अलग तस्वीर देखने को मिली । ओमप्रकाश राजभर जब राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना वोट डालकर बाहर निकले तो उनके साथ डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक भी मौजूद रहे। वहीं ओम प्रकाश राजभर ने भी अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा कि अखिलेश यादव टेंशन में हैं और हमें शिवपाल यादव से तलाक का इंतजार है। यही नहीं उन्होंने साफ कर दिया कि उनकी बसपा प्रमुख मायावती से भी उनकी बात होगी जिसके बाद उनकी अगली रणनीति बनेगी।

उन्होंने कहा कि दिल्ली का रास्ता लखनऊ से होकर जाता है। एनडीए उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू बड़ी जीत दर्ज करेंगी। यही नहीं उन्होंने कहा कि द्रौपदी मुर्मू ने सबसे वोट मांगा और उत्तर प्रदेश ने उनकी जीत सुनिश्चित कर दिया है, 21 तारीख़ को जब मतगणना होगी तो 100 प्रतिशत द्रौपदी मुर्मू जी ही जीतेंगीं। वहीं अखिलेश यादव पर नाराजगी जाहिर करते हुए उन्होंने कहा कि अब अखिलेश यादव को वोट की जरूरत नहीं है, उन्होंने न तो प्रेस वार्ता में बुलाया और न ही डिनर पार्टी में बुलाया।

उत्तर प्रदेश में कुल 396 विधायकों ने राष्ट्रपति चुनाव में वोटिंग की है। इसके अलावा पांच विधायकों ने दूसरे राज्य में अपना मतदान किया है। सपा विधायक नाहिद हसन जेल में होने के कारण और सपा विधायक अब्बास अंसारी का गिरफ्तारी वारंट होने की वजह से वोट नहीं पड़ सका है। इसके अलावा कुछ विधायकों की क्रास वोटिंग की भी खबर सामने आई है।