Thursday , July 18 2024
Breaking News

दो बार निकाली गई रामभवन रुपौलिहा की शव यात्रा,एक बार चमत्कार आ गया था वापस

 

Report By : Sanjay Sahu Chitrakoot

 

चित्रकूट – कई बार ऐसी घटनाएं होती हैं, जो चर्चा का विषय बन जाती हैं। कर्वी ब्लाक अंतर्गत कालूपुर पाही में भी गुरुवार को ऐसा ही कुछ हुआ। यहां एक वृद्ध की मृत्यु के बाद जब चिता में रखा जा रहा था तो उसकी सांसें चलने लगीं। इससे लोग आश्चर्यचकित हो गए। बाद में उसे घर ले जाया गया।
जानकारी के अनुसार, जिला मुख्यालय से सटे कालूपुर पाही गांव में गुरुवार को बुजुर्ग रामभवन रुपौलिहा (95) की कथित रूप से मृत्यु हो गई। इस पर शोकाकुल घरवाले उनको अंतिम संस्कार के लिए खेत में ले गए। यहां अंतिम संस्कार के पूर्व किए जाने वाले कर्मकांड करने के बाद शव चिता में रखकर जलाने की प्रक्रिया शुरू की जा रही थी कि इस बीच उनकी सांसें चलने लगीं और वह उठकर बैठ गए। कुछ देर के लिए तो लोगों को विश्वास नहीं हुआ पर बाद में उनकी नाड़ी वगैरह देखी गई तो पता चला कि वह जीवित हैं। इस पर घरवालों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। वृद्ध के एक रिश्तेदार ने विकास बेलौंहा निवासी कालूपुर ने भी इस बात की पुष्टि की कि घटना सही है और उनको घर ले जाया गया है।

चिकित्सक बोले, अचेत रहे होंगे वृद्ध

उधर, इस संबंध में चिकित्सक डा. महेंद्र गुप्ता एमडी ने बताया कि आम तौर पर ऐसा होता नहीं है। बताया कि वृद्धों के साथ अक्सर होता है कि वे अचेत अवस्था में होते हैं तो लोग उनको मृत समझ लेते हैं। इनके साथ भी ऐसा ही हुआ होगा। इनका हृदय काम कर रहा होगा और यह अचेत अवस्था में चले गए होंगे। बाद में इनके साथ जब लोगों ने मृत्यु पूर्व संस्कार किए होंगे तो हृदय तेजी से काम करने लगा होगा और यह होश में आ गए होंगे। बताया कि बहुत कम मामलों में ऐसा होता है।

इसके बाद गुरुवार की रातः नौ बजे रामभवन का निधन हो गया और शुक्रवार की सुबह दोबारा उनकी शव यात्रा निकालकर परिजनों ने उनका अंतिम संस्कार कर दिया।

Karmakshetra TV अब Google News पर भी !