Saturday , May 21 2022
Breaking News

उत्तर प्रदेश के नए डीजीपी कौन है देवेंद्र सिंह चौहान ?

लखनऊ : गुरुवार को उत्तर प्रदेश सरकार ने 1988 बैच के आईपीएस देवेंद्र सिंह चौहान को डीजीपी का अतिरिक्त प्रभार की जिम्मेदारी सौंपी है। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने पत्र जारी करते हुए कहा कि नए डीजीपी के चयन प्रक्रिया तक यूपी पुलिस के विभागाध्यक्ष यानी डीजीपी के पद की जिम्मेदारी डीएस चौहान निभाएंगे। डीएस चौहान मौजूदा समय में डीजी इंटेलिजेंस के पद पर तैनात है इसके अलावा उनके पास उत्तर प्रदेश सतर्कता अधिष्ठान के निदेशक का पद भी कार्यभार है।

कौन है देवेंद्र सिंह चौहान ?

फिलहाल योगी के करीबी माने जाने वाले डीएस चौहान उत्तर प्रदेश के नए मुखिया बनाए जाने के लिए दावेदारों में पहला नंबर माना जा रहा है। 1988 बैच के आईपीएस अफसर डॉ. देवेंद्र सिंह चौहान हैं। वर्तमान में डीजी इंटेलिजेंस के पद पर तैनात हैं। इनका रिटायरमेंट मार्च 2023 में होना है। वह 1988 बैच के आईपीएस हैं और 15 फरवरी 2020 से डीजी इंटेलीजेंस के पद पर कार्यरत हैं। डॉ. चौहान के पास उत्तर प्रदेश सतर्कता अधिष्ठान के निदेशक का भी कार्यभार है।

यह दावेदार भी डीजीपी के लिए-

यूपी के DGP मुकुल गोयल को बुधवार रात हटा दिया है। योगी सरकार के इस फैसले के साथ ही DGP के लिए रेस शुरू हो गई है। इस रेस में 4 अफसरों का नाम हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती बोर्ड के अध्यक्ष राज कुमार विश्वकर्मा का है। दूसरे नंबर पर DG प्रशिक्षण आरपी सिंह और तीसरे नंबर पर DG, CBCID गोपाल लाल मीणा का हैं। इन सबके अलावा एक और नाम इस दौड़ में है DG जेल आनंद कुमार का। योगी सरकार जल्द ही इनमें से तीन नाम की लिस्ट अगले DGP की मंजूरी के लिए केंद्र को भेज सकती है।

1987-88 बैच का IPS बनेगा DG-

सरकार के सभी मानकों पर खरा उतरने के साथ अगले DG बनने के लिए सीनियरिटी के मानक को पूरा करना होगा। प्रदेश सरकार 1987-88 बैच के अफसरों में से DGP को चुन सकती है। इनके नाम को केंद्र सरकार के पास भेजा जाएगा। फिर, संघ लोक सेवा आयोग मानक के हिसाब से 3 वरिष्ठ IPS अफसरों को चुनेगा। इसमें से किसी एक को DGP नियुक्त किया जाता है।